7/01/2011 11:26:00 pm
55

1. अकबर ने चित्तौड़ पर कब आक्रमण कर कब्जा किया?
Ans. 1567 . में

2.
अकबर के चित्तौड़ पर आक्रमण के समय किसके नेतृत्व में हजारों राजपूतों ने मुगल सेना का मुकाबला किया?
Ans. वीर जयमल और पत्ता ने

3.
महाराणा प्रताप का राजतिलक कब कहाँ हुआ?
Ans. 1572 . में गोगुंदा में

4.
राणा प्रताप और अकबर की सेना के मध्य हल्दीघाटी का प्रसिद्ध युद्ध किस दिन प्रारंभ हुआ?
Ans. 18 जून 1576 को

5.
हल्दीघाटी के युद्ध में किस मैदान में राणा प्रताप मुगल सेना से घिर गए थे?
Ans. खमनोर गाँव के रक्त तलाई के मैदान में

6.
हल्दीघाटी युद्ध में शहीद हुए राणा प्रताप के सेनापति पठान हकीम खाँ सूरी की समाधि (मजार) कहाँ स्थित है?
Ans. खमनोर गाँव के रक्त तलाई के मैदान में

7.
हल्दीघाटी के पास स्थित खमनोर गाँव के रक्त तलाई के मैदान में ग्वालियर के किस राजकुमार ने अपने प्राण उत्सर्ग किए जिसकी समाधि (छतरी) भी वहाँ स्थित है?
Ans. राम सिंह तंवर

8.
हल्दीघाटी युद्ध के शुरू होने से पूर्व अकबर की शाही सेना ने जिस स्थान पर डेरा डाला था, उसे क्या कहा जाता है?
Ans. शाही बाग

9. राणा प्रताप के घोड़े की समाधि कहाँ स्थित है? 
Ans. हल्दीघाटी में

10. हल्दीघाटी युद्ध में प्रताप के घोड़े चेतक घायल हो जाने पर परिस्थिति को समझते हुए किस वीर राजपूत ने राजचिन्ह और ध्वज अपने हाथ में ले लिया और प्रताप के स्थान पर स्वयं लड़ कर प्रताप को युद्ध मैदान से बाहर निकाला था?
Ans. राजराणा वीदा (झाला मान)

11. मेवाड़ और मालवा के मध्य 1437 . में हुआ प्रथम संघर्ष किस युद्ध के नाम से जाना जाता है जिसमें मेवाड़ के राणा कुम्भा ने मांडू (मालवा) के सुल्तान महमूद खिलजी को हराया था?
Ans. सारंगपुर का युद्ध

12. किस शिलालेख से यह ज्ञात होता है कि गुजरात और मालवा के सुल्तानों ने महाराणा कुम्भा को हिन्दू सुरताण की उपाधि से विभूषित किया था?
Ans. रणकपुर के शिलालेख से

13. महाराणा कुम्भा का राजकीय सूत्रधार (वास्तुविद) कौन था?
Ans. सूत्रधार मंडन

14. महाराणा कुम्भा द्वारा निर्मित करवाए गए किस स्मारक को भारतीय  मूर्तिकला का शब्दकोष और हिन्दू देवी-देवताओं का अजायबघर कहा जाता है?
Ans. कीर्ति स्तम्भ को

15. कर्नल टॉड ने कुम्भाकालीन किस वास्तु कृति को कला की दृष्टि से क़ुतुबमीनार से श्रेष्ठ और कलात्मक माना था  तथा फर्ग्युसन ने रोम के टार्जन के समान स्वीकार कर कला की दृष्टि से उत्तम माना था?
Ans. कीर्ति स्तम्भ को

16. मेवाड़ के 84 दुर्गों में से कितने दुर्गों का निर्माण महाराणा कुम्भा द्वारा करवाया जाना माना जाता है?
 Ans. 32

17.जयदेव द्वारा रचित संस्कृत ग्रन्थ 'गीत-गोविन्द' की वह सबसे पहली टीका कौनसी थी जिसमे सर्वप्रथम इसके पदों को गाये जाने के रागों का निर्धारण किया गया था?
 Ans. महाराणा कुम्भा द्वारा रचित 'रसिकप्रिया टीका'

  18. महाराणा कुम्भा द्वारा रचित चार नाटकों में किन-किन भाषाओं का प्रयोग किया था?
Ans. मेवाड़ी, मराठी और कर्नाटकी

  19. कीर्ति-स्तम्भ प्रशस्ति का लेखन किसने किया था?
Ans. अत्रि और उसके पुत्र महेश ने

  20. एकलिंग-महात्म्य की रचना कुम्भा के किस दरबारी विद्वान ने की थी?
Ans. कवि कान्हा व्यास ने

  21. कुंभाकालीन वास्तुमंजरी पुस्तक की रचना किसने की थी?
Ans. मंडन के भाई नाथा ने

22. सूत्रधार मंडन ने किन महत्वपूर्ण वास्तु ग्रंथों की रचना की थी?
Ans. रूप-मंडन, वास्तु-मंडन, प्रसाद-मंडन और देवता-मूर्ति-प्रकरण

23. चित्रकला की दृष्टि से किस चित्रित ग्रन्थ की रचना महाराणा कुम्भा के काल की अनुपम देन है?
Ans. सुपसनाह-चरित्रं

  24. मेवाड़ के किस राजा के शासन काल में "कटार, कला और कलम का सुन्दर संगम" देखने को मिलता है?
Ans. कुंभा

  25.  मेवाड़ के राणा कुम्भा की हत्या किसने की थी?
Ans. उसके पुत्र ऊदा ने

  26. रत्नसिंह के बाद सिसोदिया शाखा के किस सरदार ने मेवाड़ की दयनीय स्थिति को सुधारा था जिसके कारण उसे मेवाड़ का उद्धारक  कहा गया था?
Ans. राणा हम्मीर (1326-1364) को

27. रसिकप्रिया में कुम्भा ने किसे मेवाड़ के किस शासक को वीर राजा की उपाधि से पुकारा था?
Ans. राणा हम्मीर (1326-1364) को

28. सन 1519 में गागरोण का युद्ध किन-किनके मध्य हुआ था?
Ans. राणा सांगा और मालवा के सुल्तान महमूद के मध्य जिसमे सांगा विजयी हुआ था

29. राणा सांगा और बाबर के मध्य खानवा का युद्ध कब हुआ था जिसमें सांगा पराजित हो गया था?
Ans.16 मार्च,1527 . को

30. हिन्दू साम्राज्य स्थापना करने की क्षमता होने के कारण राणा सांगा को क्या कहा गया था?
Ans. हिन्दुपत

31.  इतिहासकार गौरीशंकर हीराचन्द ओझा ने मेवाड़ के गुहिलों को विशुद्ध रूप से क्या माना हैं?
Ans. सूर्यवंशीय राजपूत

32. इतिहासकार डी. आर. भण्डारकर के अनुसार मेवाड़ के गुहिलों की उत्पत्ति किनसे हुई थी?
Ans. ब्राह्मणों से

33. मेवाड़ के गुहिल-सिसोदिया वंश का संस्थापक किसे माना जाता है
Ans. गुहिल को

34. गुहिल वंश के प्रतापी शासक बापा रावल का मूल नाम क्या था ?
Ans. कालभोज

35. मेवाड़ के किस शासक का 110 ग्रेन का एक सोने का सिक्का भी मिला है?
Ans. बापा रावल

36. मेवाड़ के गुहिल-सिसोदिया वंश को ख्यातों में किस नाम से प्रसिद्ध माना है?
Ans. आलुरावल के नाम से

37. 10 वीं सदी के लगभग मेवाड़ के गुहिल-सिसोदिया वंश का शासक कौन था?
Ans. अल्लट

38. मेवाड़ के गुहिल-सिसोदिया वंश के किस शासक ने हूण राजकुमारी हरियादेवी से विवाह किया था?
Ans. अल्लट ने

39. किसके समय में आहड़ (उदयपुर) में वराह मन्दिर का निर्माण हुआ था?
Ans. अल्लट के

40. आहड़ (उदयपुर) से पूर्व गुहिलवंश की गतिविधियों का प्रमुख केन्द्र कहाँ था?
Ans. नागदा (कैलाशपुरी के निकट)

41. किस गुहिल शासक के समय चित्तौड़ पर दिल्ली के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी ने आक्रमण किया था?
Ans. राणा रत्नसिंह (1302-03)

42. मेवाड़ का उद्धारक  किसे कहा गया था?
Ans. राणा हम्मीर (1326-1364) को

43. मेवाड़ के किस राणा के समय उदयपुर की पिछोला झील का बांध बंधवाया गया था?
Ans. राणा लाखा (1382-1421)

44. मेवाड़ के किस शासक ने चित्तौड़ के समिधेश्वर (त्रिभुवननारायण मंदिर) मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया था?
Ans. राणा लाखा के पुत्र मोकल ने

45. अपने मन्त्रियों की सलाह पर सन 1567-68 में अकबर के चित्तौड़ पर आक्रमण के समय मेवाड़ का कौनसा राणा चित्तौड़ की रक्षा का भार जयमल मेड़तिया और फत्ता सिसोदिया को सौंप कर स्वयं गिरवा की पहाडि़यों में गया?
Ans.  राणा उदयसिंह

46. चित्तौड़ पर आक्रमण के समय अकबर मेवाड़ के किन वीरों की वीरता से इतना मुग्ध हुआ कि उसने आगरा किले के द्वार पर उनकी पाषाण मूर्तियाँ बनवाकर लगवा दी थी?
Ans. जयमल और फत्ता की

47. किसने चित्तौड़ के विक्रमादित्य की हत्या कर दी तथा विक्रमादित्य के दूसरे भाई उदयसिंह को भी मारना चाहता था?
Ans.  कुँवर पृथ्वीराज के अनौरस पुत्र बनवीर ने

48. बनबीर विक्रमादित्य की हत्या के बाद उसके दूसरे भाई बालक उदयसिंह को भी मारना चाहता था किन्तु किसने अपने पुत्र चन्दन की बलि चढ़ा कर उदयसिंह को बचा लिया था?
Ans.  पन्नाधाय ने

49. पन्नाधाय ने बनबीर से उदयसिंह को बचाकर किस किले में सुरक्षित पहुंचा दिया था?
Ans.  कुम्भलगढ़ में

50. महाराणा प्रताप को पहाड़ी भाग में बाल्यकाल में क्या कहा जाता था, जो स्थानीय भाषा में छोटे बच्चे का सूचक था?
Ans.  कीका

55 टिप्पणियाँ:

  1. jitendra singh solanki15 September 2011 14:06

    vry good blog.thanks and pls carry on?

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद जितेन्द्र जी। सराहना हेतु आभार आपका। स्नेह बनाए रखें।

    ReplyDelete
  3. JAI SHREENATH JI..

    GOOD INFO. THANKS

    ReplyDelete
  4. धन्यवाद महावीर जी

    ReplyDelete
  5. Thanks.......

    ReplyDelete
  6. आपका स्वागत है प्रदीप मीणा जी। अपना स्नेह बनाए रखें।

    ReplyDelete
    Replies
    1. अमर गोदारा21 August 2013 23:36

      सरजी मैँ बाङमेर से हु आपने जो राजस्थान सामान्य ग्यान की जो साईट बनाई है इस हेतू आपको कोटि-कोटी धन्यवाद

      Delete
  7. Dhanywad bahut achi jankari hai,aage bhi ise jari rakhe

    ReplyDelete
  8. घनश्याम जी आपका स्वागत है। आपके स्नेह व संबल से पुनर्बलन मिल रहा है और यह प्रयास जारी है।

    ReplyDelete
  9. आपका आभार है मनोज मीणा जी। स्नेह बनाए रखें।

    ReplyDelete
  10. आपका स्वागत Raghunath Ji.

    ReplyDelete
    Replies
    1. राज. मैं अधिक बाजरा कहा होता है।

      Delete
  11. Thats very nice plz keep up dup ,thanks nd help us ,plz insert mistry question.we r don't reach them ok thanks thanks

    ReplyDelete
  12. धन्यवाद मोहनपाल जी। आपके सुझाव के अनुसार प्रयास किया जाएगा।

    ReplyDelete
  13. Anil Sharma1 May 2012 12:03

    It is a good site for those student who are preparing for the xams for their jobs
    Thanks again for this side

    ReplyDelete
  14. Anil Sharma1 May 2012 12:06

    It is a good site for those student who are preparing for the xams for their jobs
    Thanks again for this side

    ReplyDelete
  15. अनिल शर्मा जी हमारे इस प्रयास की सराहना करने के लिए हार्दिक धन्यवाद। कृपया स्नेह बनाए रखें।

    ReplyDelete
  16. its really helpfull for new coumers.. gud job!

    ReplyDelete
  17. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  18. Thanks Kritz for appreciation...

    ReplyDelete
  19. sir, can u plz update some more basic GK matter for RAS students.. basically history $ geog. of rajasthan as maximum questions likely to b asked frm the above..
    THNX.

    ReplyDelete
  20. Kritz ji, मेरा प्रयास यही है कि राजस्थान पर बेहतर सामग्री उपलब्ध कराई जाए। इच्छा तो बहुत है लेकिन अभी कुछ दिनों से ज्यादा नहीं लिख पा रहा हूँ। दुआ करें कि अच्छा कर पाऊं।

    ReplyDelete
  21. sir agr aap mjuhe in topics pe bare me jankari de ske to aap ki bahot mahrbani hogi.

    raj prshasan-(nayaypalika,vayvsthapika,karypalika)

    zila prshasan-(ziladhees,upkhand adhikari,tehsildar)

    sthaniy prshasn-(gramin evm nagariy)

    ReplyDelete
  22. will be waiting for your updates sir... and if possible can we avail this facility of mail as PDF for more matter issued by you..

    GOD BLESS YOU for ur efforts!

    ReplyDelete
  23. will be waiting for your updates sir... and if possible can we avail this facility of mail as PDF for more matter issued by you..

    GOD BLESS YOU for ur efforts!

    ReplyDelete
  24. RTET KE LIYE KON SI BOOK SHI HE

    ReplyDelete
  25. pooja prajapat10 July 2012 14:32

    thank you............

    ReplyDelete
  26. पूजा प्रजापत जी, आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  27. thank you, and plz send me any other matters.

    ReplyDelete
  28. खरगोश का संगीत राग रागेश्री पर आधारित है जो
    कि खमाज थाट का सांध्यकालीन राग
    है, स्वरों में कोमल निशाद और बाकी
    स्वर शुद्ध लगते हैं, पंचम इसमें
    वर्जित है, पर हमने इसमें अंत में
    पंचम का प्रयोग भी किया है,
    जिससे इसमें राग बागेश्री भी झलकता है.
    ..

    हमारी फिल्म का संगीत वेद नायेर ने दिया है.
    .. वेद जी को अपने संगीत कि प्रेरणा जंगल में चिड़ियों कि चहचाहट से मिलती है.
    ..
    Here is my blog :: खरगोश

    ReplyDelete
  29. धन्यवाद विक्रम जी

    ReplyDelete
  30. pawandeep jangid16 June 2013 23:26

    vry nice or inteligence work for compititn student....thnks again

    ReplyDelete
  31. Very gøød ques.

    ReplyDelete

  32. sir we really need Rajasthan GK in Hindi for rpsc exams. thanks for this post.

    ReplyDelete
  33. Kripya kuch aur quiz dale. apka blog bahut hi achha hai. hindi jokes sms

    ReplyDelete
  34. Hi All,

    For Rajasthan information and GK question you can download Rajasthan GK Application from below given link. It will help you to improve your knowledge about Rajasthan. Please fell free to provide your feedback about the application so, we can improve and add more information as per your feedback. Thanks Dune Labs.

    https://play.google.com/store/apps/details?id=com.csurender.android.rajasthangk

    ReplyDelete
  35. teju jani 143 जी, इस प्रयास की सराहना हेतु आपका ह्रदय से आभार.

    ReplyDelete
  36. Keep this going please, great job!

    Here is my blog post; Professional Voice Over North American Male Voice Over

    ReplyDelete

Your comments are precious. Please give your suggestion for betterment of this blog. Thank you so much for visiting here and express feelings
आपकी टिप्पणियाँ बहुमूल्य हैं, कृपया अपने सुझाव अवश्य दें.. यहां पधारने तथा भाव प्रकट करने का बहुत बहुत आभार

Comments

Support us on Facebook

स्वागतं आपका.... Welcome here.

राजस्थान के प्रामाणिक ज्ञान की एकमात्र वेब पत्रिका पर आपका स्वागत है।
Welcome to the
the only web magazine of authentic knowledge of Rajasthan.

"राजस्थान की कला, संस्कृति, इतिहास, भूगोल और समसामयिक दृश्यों के विविध रंगों से युक्त प्रामाणिक एवं मूलभूत जानकारियों की एकमात्र वेब पत्रिका"

"The only web magazine of various colours of authentic and basic information of Rajasthan's Art, Culture, History, Geography and Current affairs "
"विद्यार्थियों के उपयोग हेतु राजस्थान से संबंधित प्रामाणिक तथ्यों को हिंदी माध्यम से देने के लिए किया गया यह प्रथम विनम्र प्रयास है।"
राजस्थान सम्बन्धी प्रामाणिक ज्ञान को साझा करने के इस प्रयास को आप सब पाठकों का पूरा समर्थन प्राप्त हो रहा है। कृपया आगे भी सहयोग देते रहे। आपके सुझावों का हार्दिक स्वागत है। कृपया प्रतिक्रिया अवश्य दें। धन्यवाद।

Click Here For Collection

Recent Posts

Useful links of PSCs

Public Service Commissions of States

All rights reserve to Shriji Info Service.. Powered by Blogger.

Rajasthan News

Loading...

विनम्र अनुरोध-

यह देखा गया है कि कतिपय वेबसाइट ने इस ब्लॉग की सामग्री को हूबहू अपने यहाँ प्रकाशित कर दी है जो हर दृष्टि से अनुचित है। अतः अनुरोध है कि इस ब्लॉग में प्रकाशित सामग्री को हमारी अनुमति के बिना कोई भी कहीं पर प्रकाशित नहीं करें। ऐसा करना न केवल सर्वथा अनुचित है अपितु हमारे द्वारा पूर्ण परिश्रम के साथ किए जा रहे प्रयास के लिए भी नकारात्मक उत्प्रेरणा का कारण हैं। ये ब्लॉग हिन्दी मेँ राजस्थान की जानकारी देने के लिए बनाया गया है। आप सभी के सहयोग से आगे बढ़ रहा है। आपकी सकारात्मक उत्प्रेरणा और प्रतिक्रियाओं के साथ आगे का सफ़र निर्बाध तय करेगा, इसी उम्मीद के साथ... धन्यवाद, जय श्रीकृष्ण।

Live Traffic Feed

Disclaimer:

This Blog is purely informatory in nature and does not take responsibility for errors or content posted in this blog. If you found anything inappropriate or illegal, Please tell administrator. That Post would be deleted.